फिर संकट में आई मध्य प्रदेश की कमलनाथ सरकार, कही दौबारा ना हो जाये विधान सभा चुनाव

Written by TCN MEDIA, January 11, 2019

कांग्रेस ने देश के 5 राज्यों में हुए विधानसभा चुनाव जीतकर 3 राज्यों में अपनी सरकार तो बना ली लेकिन अब लगता हैं कांग्रेस की मुसीबतों की शुरुवात भी हो चुकी हैं । आज हम आपको सबसे चर्चित राज्य मध्य प्रदेश की राजनीती के बारे में ऐसा कुछ बताने जा रहे हैं जिसको जानकर आप ही नही बल्कि राजनीति के जानकार भी हैरान हैं । खबर आ रही हैं की मध्य प्रदेश की कमलनाथ सरकार एक बार फिर संकटों से घिर चुकी हैं । आइये आपको पूरी खबर बताते हैं ।

मध्य प्रदेश के हुए विधान सभा चुनाव के बारे में आप सभी अच्छे से जानते हैं । कांग्रेस ने वहां जीत तो दर्ज की थी लेकिन ये जीत इतनी बड़ी नही थी की वह अपने अकेले के दम पर सरकार बना सके लिहाजा उसने चार निर्दलीय, एक सपा विधायक और दो बसपा विधायकों का सहारा लिया और मध्य प्रदेश में अपनी सरकार बना ली हैं । काफी सोच विचार करने के बाद कांग्रेस ने राज्य की कमान अपने सबसे अनुभवी नेता कमलनाथ को दे दी हैं ।

अब खबर ये आ रही हैं की मंत्री पद पाने की होड़ में कांग्रेस के नेता ही आपस में भीड़ रहे हैं वही जिन दुसरे नेताओ के बल पर कांग्रेस ने एमपी में अपनी सरकार बनाई हैं उनको भी मंत्री पद की लालसा हैं । वही जिन नेताओं को मंत्री बनाया गया हैं वह अपने पसंदीदा विभाग के मिलने से कांग्रेस से नाराज चल रहे हैं और लगातार बीजेपी से समपर्क बनाये हुए हैं । एक विधायक ने तो यहाँ तक कहा हैं की मध्य प्रदेश की कांग्रेस सरकार का रिमोट कांग्रेस के हाथो में ही नही हैं बल्कि ये सरकार कभी भी गिर सकती हैं, बहुत हद तक सम्भव हैं की चुनाव आयोग को मध्यप्रदेश में दौबारा विधानसभा चुनाव कराने की जरूरत ना पड़ जाये ।

इन सम्भावनाओ को उस समय भी बल मिल कांग्रेस के दिग्गज नेता दिग्विजय सिंह ने ये तक कह दिया की उनके विधायक लगातार बीजेपी के सम्पर्क में हैं । आंकडो के खेल को देखे तो मध्य प्रदेश में कमलनाथ सरकार के पास 114 सीट हैं वही बीजेपी 109 सीटो पर हैं तो कहा जा सकता हैं की आने वाला समय कमलनाथ सरकार के लिए कम चुनौती भरा नही रहेगा । आपकी इसके बारे में क्या राय हैं कृपया कमेंटबॉक्स में हमे जरुर लिख भेजे ।

Loading...
Loading...