बिहार के सभी कॉलेजों के लिए नैक की मान्यता हुई अनिवार्य, मापदंडो पर उतरना होगा खड़ा


0

बिहार के प्रत्येक विश्वविद्यालय को अपने क्षेत्राधिकार के सभी कॉलेजों में नेशनल असेस्मेंट एंड एक्रेडिटेशन काउन्सिल कराना अनिवार्य होगा. जिसमे अंगीभूत एवं सम्बद्ध सभी कॉलेज शामिल होंगे. इन कॉलेजों को NAAC में पूरा सिस्टम डिजिटल करना होगा. मान्यता प्राप्त करने के लिए डिजिटल सिस्टम के बेहतर होने पर 70 अंक व् मैन्युअल पर 30 अंक दिए जाएंगे. इसी आधार पर कॉलेजों का रिजल्ट तैयार किया जाएगा.

दरअसल पिछले सप्ताह राजभवन पटना में भी नैक जागरूकता पर दो दिवसीय कार्यशाला का आयोजन हुआ था. नैक की मान्यता लेने में जिन विश्वविद्यालयों की प्रगति सुस्त है उन्हें नुक्सान झेलना पड़ सकता है. उस सूची में बीआरए बिहार विश्वविद्यालय भी शामिल है. पिछले एक साल में न तो बिहार विवि की किसी कॉलेज में कार्यशाला हुई है और न ही नैक कराया गया है. ऐसी उदासीन रवैये पर राजभवन ने असंतोष जताया है और सम्बंधित विवि को कार्ययोजना के तहत काम करने के निर्देश दिए हैं.

सभी कॉलेजों को नैक कराने से पहले अपना एक आधिकारिक वेबसाइट बनाना अनिवार्य होगा. जिसमे कॉलेज का नक्शा, आधारभूत संरचना, शिक्षकों की संख्या, छात्रों की संख्या आदि की जानकारी मौजूद हो. इसके साथ ही छात्र वेबसाइट खोलकर कॉलेज के लिए ऑनलाइन आवेदन कर सके.


Like it? Share with your friends!

0

0 Comments

Your email address will not be published. Required fields are marked *