लालू यादव का बिहार का लेटर – खेत बचा लीजिए, तभी होगी अगली फसल


0

Patna : राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव चारा घोटाला में सजायाफ्ता हैं. उनका अभी रांची रिम्स अस्पताल में इलाज चल रहा है. आज यानि बुधवार को सुप्रीम कोर्ट ने जब लालू प्रसाद की जमानत याचिका खारिज की तो उनका दर्द छलक गया. लालू यादव ने सोशल मीडिया के माध्यम से तीन पन्नों की चिट्ठी पोस्ट की है. लालू ने लेटर में लिखा है…

मेरे प्यारे बिहार वासियों, आप सबको प्रणाम, नमस्कार, सलाम इस वक़्त जब बिहार एक नयी गाथा लिखने जा रहा है. लोकतंत्र का उत्सव चल रहा है. यहाँ रांची के अस्पताल में अकेले में बैठकर सोच रहा हूँ कि क्या विध्वंसकारी शक्तियां मुझे इस तरह कैद कर के बिहार में फिर किसी षड़यंत्र की पठकथा लिखने में सफल हो पाएंगी? मेरे रहते मेरे बिहारवासियों के साथ मैं फिर से धोखा नहीं होने दूंगा. मैं कैद में हूँ, मेरे विचार नहीं. अपने विचारों को आपसे सांझा कर रहा हूँ. क्यूंकि एक दूसरे से विचारों को साँझा करके ही हम इन बांटने वाली ताकतों से लड़ सकते है.

रांची के अस्पताल में अकेले बैठकर आप लोगों से बात करने का मन हुआ. जैसा की आप सब जानते ही है लोकसभा चुनाव का बिगुल बज चुका है. देश में बहुत बार चुनाव हुए हैं पर इस बार का चुनाव पहिले जैसा चुनाव नहीं है. इस बार के चुनाव में सब कुछ दांव पर है, देश, समाज, लालू यानी आपका बराबरी से सिर उठाकर चलने का जज्बा देने वाला और आपके हक और आपकी इज्ज़त और गरिमा सब दांव पर है. लड़ाई आर-पार की है. मेरे गले में सरकार और चालबाजों का फंदा कसा हुआ है उम्र के साथ शरीर साथ नहीं दे रहा पर आन और आबरू की लड़ाई में लालू की ललकार हमेशा रहेगा.

ई ललकार हमारे सिपाहियों के दम पर है. जो हार में जीत में हर हाल में मैदान में डटने वाला रहा है पीठ दिखाकर भागनेवाला नहीं. जैसे गांधी जी ललकार कर अंग्रेजों भारत छोड़ो कहने के बाद करो या मरो का नारा दिए थे. वैसे ही ई लड़ाई देश तोड़ने वाले लोगों के खिलाफ है, संविधान में दिए हक की हिफाजत की लड़ाई है.

Source : Live Cities


Like it? Share with your friends!

0

0 Comments

Your email address will not be published. Required fields are marked *