भगवान शिव के अमरनाथ धाम में मौजूद है देवी शक्ति का 13वां शक्तिपीठ


0

भगवान शिव का पवित्र धामों में से एक है अमरनाथ गुफा (Amarnath Dham)। जहां हर साल बर्फ के शिवलिंग यानी बाबा बर्फानी के दर्शन के लिए दुनियाभर से श्रद्धालु आते हैं।
लेकिन क्‍या आप जानते हैं कि इस पवित्र गुफा (Amarnath Dham) में एक महामाया शक्तिपीठ (Shaktipeeth) भी है। यह शक्तिपीठ मां दुर्गा के 51 शक्तिपीठों में से 13वां है। आइए, जानते हैं इस शक्तिपीठ से जुड़ी पौराणिक कथा…

यहां गिरा था माता सती का गला
गुफा में बाबा बर्फानी हिमलिंग के रूप में भक्‍तों को दर्शन देते हैं तो हिमनिर्मित पार्वती पीठ प्राकृतिक रूप से हर साल अपने आप तैयार हो जाता है। मान्‍यता है कि पिता द्वारा भगवान शिव का अपमान होने से नाराज देवी सती ने हवनकुंड में कूदकर आ’त्‍मदा’ह किया। उनके अधज’ले शरीर को हाथों में लेकर व्‍यथित शिव पूरे ब्रह्मांड में घूमते रहे। उस वक्‍त देवी के अंगों में से उनका कंठ यहां गिरा था। इसलिए यहां शक्तिपीठ के रूप में माता की आराधना की जाती है।

इसलिए बना अमरनाथ धाम
पुराणों में बताया गया है कि इस पवित्र गुफा में ही भगवान शिव ने माता पार्वती को जीवन मरण से संबंधित रहस्‍य, कथा के रूप में माता पार्वती को सुनाया था। क्योंकि शिव अजर-अमर थे और पार्वती जीवन-मृ’त्यु के बंधन में थीं। इसलिए वह हर जन्म में कठोर तप कर शिव को पति रूप में प्राप्त करती थीं।

शिव-पार्वती पुत्र गणेश भी हैं विराजमान
यहां हर साल बननेवाले तीन हिंमलिंगों में से एक को गणपति भगवान के रूप में भी पूजा जाता है। इसलिए कहा जाता है कि भगवान शिव अपने परिवार के साथ यहां विराजमान हैं।

शक्तिपीठ की पूजा विधि
हिमलिंग के रूप में माता भगवती की पूजा भी यहां पूरे विधि विधान के साथ की जाती है। यहां भगवती के अंग और उनके आभूषणों की पूजा की जाती है। मान्‍यता है कि जो भक्‍त यहां से भगवान शिव के साथ-साथ मां भगवती का भी आशीर्वाद लेकर जाते हैं, व‍ह संसार में सारे सुखों को भोगकर अंत में मोक्ष प्राप्‍त करते हैं।

बाबा भैरों की इस रूप में होती है पूजा
इस पवित्र गुफा में बाबा भैरों की पूजा त्रिसंध्‍येश्‍वर भगवान के रूप में होती है। कहते हैं कि बाबा बर्फानी और महामाया शक्तिपीठ के दर्शन के बाद यदि भैरों बाबा के दर्शन नहीं किए तो पूजा का पूर्ण फल प्राप्‍त नहीं होता।

Source: Live Dharm


Like it? Share with your friends!

0

0 Comments

Your email address will not be published. Required fields are marked *