फ्रांस ने कहा-पाकिस्तानी पायलटों को राफेल उड़ाने का प्रशिक्षण नहीं दिया गया है


0

New Delhi : देश में राफेल लड़ाकू विमान सौदे को लेकर मचे सियासी घमासान के बीच फ्रांस ने ऐसी मीडिया रिपोर्टों का खंडन किया है जिनमें कहा जा रहा था कि पाकिस्तानी पायलटों को कतर की ओर से राफेल लड़ाकू विमान उडाने का प्रशिक्षण दिया गया है।

अमेरिकी पोर्टल एआईएन ऑनलाइन ने गत फरवरी में एक रिपोर्ट में कहा था कि पाकिस्तानी पायलटों को नवम्बर 2017 में कतर के आदान-प्रदान कार्यक्रम के तहत राफेल विमान उडाने का प्रशिक्षण दिया गया था। अब फ्रांस ने ऐसी रिपोर्टों का खंडन किया है। भारत ने इससे एक साल पहले ही फ्रांस के साथ 36 राफेल विमान खरीदने के अनुबंध पर हस्ताक्षर किए थे। इस सौदे को लेकर सरकार और विपक्ष के बीच लंबे समय से खींचतान चल रही है और यह मामला उच्चतम न्यायालय तक पहुंच गया है।

बुधवार को कोर्ट ने दिया था केंद्र को झटका : बता दें कि राफेल डील के मामले पर सुप्रीम कोर्ट ने बुधवार को केंद्र सरकार को तगड़ा झटका दिया। सुप्रीम कोर्ट ने इस मामले में सरकार की आपत्तियों को खारिज कर दिया। साथ ही कोर्ट ने पुनर्विचार याचिकाओं पर सुनवाई करते हुए राफेल डील से संबंधित तीन दस्तावेजों को सबूत के तौर पर स्वीकार करने की अनुमति प्रदान कर दी। सुप्रीम कोर्ट इन दस्तावेजों के आधार पर पुनर्विचार याचिका पर आगे की सुनवाई करेगा।

राहुल ने भी बोला सरकार पर हमला : कोर्ट के ऑर्डर के बाद कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने भी कहा कि उच्चतम न्यायालय ने पाया कि चौकीदार ने चोरी की है। गरीबों का पैसा अनिल अंबानी की जेब में डाला है। उन्होंने कहा कि आज खुशी का दिन है। अदालत ने हमारी बात पर अपनी मुहर लगाई है। गांधी ने एक बार फिर से प्रधानमंत्री को 15 मिनट बहस करने की चुनौती दी। सरकार की तरफ से केंद्रीय कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद ने टिप्पणी की। उनका कहना है कि यह सरकार के लिए झटका नहीं है।


Like it? Share with your friends!

0

0 Comments

Your email address will not be published. Required fields are marked *