भारत के मिशन शक्ति के समर्थन में अमेरिका,कहा-अंतरिक्ष में खतरे से बचने के लिए भारत ने ऐसा किया


0

New Delhi : अमेरिकी रक्षा विभाग पेंटागन ने भारत के मिशन शक्ति का समर्थन किया है। पेंटागन का कहना है कि अंतरिक्ष में खतरे से बचने के लिए भारत ने ऐसा किया। बता दें कि हाल ही में भारत ने मिशन शक्ति के तहत अंतरिक्ष में एसैट मिसाइल द्वारा एक सैटेलाइट को मार गिराया था।

द इकोनोमिक टाइम्स की रिपोर्ट के अनुसार, US स्ट्रैटेजिक कमांड के कमांडर जनरल जॉन ई हाइटेन ने सीनेट आर्म्ड सर्विस कमेटी के सामने कहा, सबसे पहला सवाल यह है कि भारत ने ऐसा क्यों किया? इसका उत्तर है कि वह अंतरिक्ष में अपने देश की सुरक्षा चाहता था, इसीलिए भारत को लगा कि उसके पास अंतरिक्ष में सुरक्षा की क्षमता होनी चाहिए।

बताते चलें कि इससे पहले भी अमेरिकी रक्षा मंत्रालय के हेडक्वार्टर पेंटागन ने भारत द्वारा एंटी सैटेलाइट मिसाइल टेस्ट का समर्थन करते हुए कहा था कि इससे अंतरिक्ष में फैले मलबे से किसी तरह का नुकसान नहीं होगा। पेंटागन ने कहा था कि टेस्ट के कारण वातावरण में जो मलबा फैला है वह कुछ वक्त में जलकर खत्म हो जाएगा। यह बात पेंटागन ने नासा के प्रशासक जिम ब्राइडेंस्टाइन के उस बयान के बाद कही, जिसमें उन्होंने कहा था कि भारत द्वारा किए गए टेस्ट से फैला मलबा अंतरराष्ट्रीय स्पेस स्टेशन से टकरा सकता है। ये बहुत ही घातक स्थिति होगी।

इस टेस्ट के बाद भारत एंटी-सैटेलाइट मिसाइल क्षमता वाला दुनिया का चौथा देश हो गया है। भारत के अलावा ये क्षमता अमेरिका, रूस और चीन के पास है।


Like it? Share with your friends!

0

0 Comments

Your email address will not be published. Required fields are marked *