मां तूझे सलाम : पति के बाद अब बेटा भी कर दिया देश के नाम…बनाया आर्मी में ऑफिसर 


0

New Delhi : 9 साल पहले सरहद पर भारतीय सेना के जांबाजों ने दुश्मनों को खदेड़ कर कारगिल विजय की गौरव गाथा लिखी। इसमें कई वीर सपूतों ने अपने प्राण न्यौछावर कर दिए। इन शहीदों में एक BSF के डिप्टी कमाण्डेन्ट और राष्ट्रपति द्वारा गैलेंट्री अवार्ड से सम्मानित रहे कोटा राजस्थान के सुभाष शर्मा भी शामिल थे।

कारगिल युद्ध मे देश की रक्षा करते हुए जब सुभाष शर्मा शहीद हुए थे, तब उनके पीछे छूट गए थे उनकी पत्नी बबीता शर्मा और 9 महीने का बेटा क्षितिज। उनके लिए ये एक त्रासदी से कम नही था।बच्चे को तो अभी पिता का मतलब भी नही पता था।सामान्यतः एक दुधमुँहे बच्चे के साथ अकेली औरत जीवन के संघर्षों में दम तोड़ दे। पर बबीता शर्मा की अदम्य इक्षाशक्ति और समर्पण के आगे नियति ही उनकी मार्गदर्शक और सहायक बन गयी। तब से लेकर अब तक कई वर्ष बीत गए, बबीता जी की आंखों में उनका कमिटमेंट हर पल जीवित रहा।

पति के शहीद होने पर किया गया उनका प्रण तब साकार हो गया जब उनका 22 वर्षीय बेटा क्षितिज IMA देहरादून से आर्मी ऑफिसर बन के निकला। क्षितिज उन्हीं वादियों में देश की रक्षा में हैं जहां कभी उनके वीर पिता की बंदूकें गरजती थीं। बबीता शर्मा जी को उनके समर्पण और इस देश के लिए किए गए बलिदानों के लिए शत शत नमन है। ऐसी वीरांगनाओं और वीर माताओं को देश सलाम करता है।


Like it? Share with your friends!

0

0 Comments

Your email address will not be published. Required fields are marked *