जदयू और कांग्रेस जुटी अपने-अपने वोट हासिल करने में, कोई सवर्ण तो कोई मुस्लिम


0

बिहार में लोकसभा चुनाव की सरगर्मी बढ़ने के साथ जातिगत गणना का खेल और गहरा हो गया है। इसका नज़ारा सीमांचल क्षेत्र में और बेहतर देखने को मिल रहा है। जदयू, जो भाजपा गठबंधन के साथ चुनाव लड़ रही है, की नज़रें मुसलमानो के मत पर है, वहीँ कांग्रेस सवर्णो का मत पाने के लिए उन पर नज़रें लगाई हुई हैं। धर्मनिरपेक्ष राजनीति का पक्ष जदयू और कांग्रेस दोनों की ओर से बनाया गया है। मुसलमानो की तादाद सीमांचल क्षेत्र में बहुत अच्छी है। ऐसे स्थिति में भाजपा से ज्यादा जदयू ही सक्रिय दिख रहा है। इस क्षेत्र में भाजपा ने अपने हिन्दुत्व के पक्ष में खुला छोड़ा हुआ है।

सीमांचल क्षेत्र में जारी इस राजनीति में कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और पूर्व मंत्री कृपनाथ पाठक ने बताया कि भाजपा और जदयू के इस स्टैंड में कांग्रेस ने सफल नहीं होने का दावा किया है, और बोला है कि सीमांचल में उनके रहते भाजपा-जदयू मिलकर सवर्ण और मुस्लिम का मत हासिल करने में कामयबा नहीं होंगे। दूसरी तरफ, किशनगंज की राजनीति में पिछले दो दिनों में जदयू के आरसीपी सिंह ने काफी दिमाग खपाया है। जदयू का प्रयास है की किशनगंज में कांग्रेस का वोट अपने तरफ कर लिया जाए, जबकि पूर्णिया और कटिहार में कांग्रेस का प्रयास है कि भाजपा का वोट अपने तरफ कर लिया जाए। आपको मालूम होना चाहिए की 18 अप्रैल को किशनगंज, पूर्णिया और कटिहार में लोकसभा चुनाव का मतदान होगा।

 


Like it? Share with your friends!

0

0 Comments

Your email address will not be published. Required fields are marked *