सास का हाथ पकड़कर अपने ऑफिस तक ले गईं IPS बहु, फिर उनका पैर छूकर इस IPS ने संभाली अपनी ड्यूटी


0

मध्यप्रदेश राज्य के शहर इंदौर से एक बहुत ही रोचक घटना सामने आया है। यहाँ एक महिला आईपीएस ने कुछ ऐसा की, जिसके बाद इनकी चर्चा सोशल मिडिया पर खूब वायरल हो रहा है। आप की जानकारी के लिए बता उस महिल आईपीएस का नाम रुचि वर्धन (Ruchi Vardhan IPS) है। इन्होंने बीते मंगलवार को ही इंदौर में इंदौर पुलिस की कमान संभाली है। लेकिन इन्होंने अपने पद ग्रहण करने से पहले जो किया उसकी चर्चा खूब हो रही है।

Ruchi Vardhan IPS –

आप को बता दे की आईपीएस रुचि वर्धन कल मंगलवार के दिन सबसे पहले, सुबह 11 बजे कार से कलेक्टर पति शशांक, बेटे और सास के साथ डीआईजी कार्यालय पहुंचीं थी। इन्होंने अपनी सासु माँ को खुद हाथ पकड़कर ऑफिस में लेकर आई थी। उसके बाद वहां पर डीआईजी हरिनारायणाचारी मिश्र के द्वारा फूलो का गुलदस्ता भेट कर स्वागत किया गया, उसके बाद उन्हें चार्ज सौंपा गया। एसएसपी रुचि वर्धन ने सबसे पहले वहाँ पर ऑफिस में अपनी सासु माँ के पैर छुए और उसके बाद अपनी नई ड्यूटी की जिम्मेदारी संभाली।

फिर एडीजी वरुण कपूर के कार्यालय पहुंचीं –

आप की जानकारी के लिए बता दे की आईपीएस रुचि वर्धन (Ruchi Vardhan IPS) साल 2006 की आईपीएस बैच की टॉपर और अचूक निशानेबाज रह चुकी है। रुचि वर्धन मूलतः सतना की रहने वाली हैं, और ये होशंगाबाद में एसपी और भोपाल व राजगढ़ में एएसपी भी रह चुकी है।

इन्होंने भोपाल की ही सबसे प्रमुख सातवीं बटालियन में कमांडेंट की पद की भी कार्य भार संभाल चुकी है। रुचि वर्धन के पती का नाम शशांक मिश्र है जो की ये अभी उज्जैन में कलेक्टर के पद पर है, इनकी एक बेटी भी है। इन्होंने बताया की फर्स्ट टाइम में ही हमारी आईएएस और आईपीएस दोनों में सलेक्शन हो गया था। लेकिन हमने आईपीएस को ज्यादा चैलेंजिंग जॉब को देखते हुए इसे चुना था।

इस तरह बनी आईपीएस –

रुचि वर्धन बताती है, साल 2006 में वे दिल्ली की जेएनयू यूनिवर्सिटी में एमए और एमफील की पढ़ाई करने के साथ यूपीएससी परीक्षा दी थी जिसमे उन्हें फर्स्ट एटेम्पट में ही सफलता हासिल हो गई थी। उन्होंने बताया की उनकी ऑल इंडिया में 67वीं रैंक आया था। जिसके बाद आईपीएस बनने के बाद तीन महीने की इंडक्शन ट्रेनिंग मसूरी में पूरी की थी।

उसके बाद हमे हैदराबाद में सरदार वल्लभभाई पटेल नेशनल पुलिस एकेडमी में ट्रेनिंग मिली थी। इस दौरना उन्हें शूटिंग कॉम्पिटिशन में 10 में से 10 नंबर लाकर अचूक निशाने लगाने पर उन्हें पहला अवॉर्ड प्राप्त हुआ था। साथ ही रुचि वर्धन (Ruchi Vardhan IPS) बताती है जब वो भोपाल में ही रेलवे एसपी थी तब, भोपाल रेलवे स्टेशन पर 2016 में 13 वर्षीय बच्ची से आठ युवकों ने गैंग रेप किया गया था। सी केस के सभी आठों आरोपियों को गिरफ्तार करने के बाद उन्हें सजा दिलाने में अहम भूमिका निभाई थी।

Source: HindustanFeed


Like it? Share with your friends!

0

0 Comments

Your email address will not be published. Required fields are marked *