शिवराज सिंह के लिए अच्छी खबर, मध्यप्रदेश की कांग्रेस सरकार में अंदरूनी कलह, आमने सामने हुए कमलनाथ और सिंधिया

Written by TCN MEDIA, January 2, 2019

जब से कोंग्रेस ने 5 राज्यों में विधानसभा चुनाव जीतकर 3 हिंदी राज्यों में अपनी सरकार बनाई हैं तभी से कोई ना कोई ऐसी खबर आ ही जाती हैं जिसको जानकर हर कोई हैं रह जाता हैं । खासकर मध्यप्रदेश से ऐसी खबरों का आना रुकने का नाम नही ले रहा हैं । जहाँ पहले मध्यप्रदेश के चुनाव को जीतकर मुख्यमंत्री का नाम तय करने में कोंग्रेस के पसीने छुट गये उसके बाद कमलनाथ को मुख्यमंत्री बनाना भी कोंग्रेस के लिए कम परेशानी भरा नही रहा क्योकि मुख्यमंत्री पद के दुसरे दावेदार ज्योतिरादित्य सिंधिया के समर्थको ने हंगामा मचा दिया ।

खैर कोंग्रेस ने इसको जैसे तैसे करके सुलझा लिया लेकिन अब एक ऐसी खबर आ रही जिसके बारे में कहा जा रहा हैं की मध्यप्रदेश में कोंग्रेस के अंदर एक अंदरूनी कलह छिड़ी हुई हैं जिसका कुछ दिनों बाद होने वाले लोकसभा चुनाव पर सीधा प्रभाव पड़ सकता हैं । जानकारी के अनुसार मध्यप्रदेश कोंग्रेस इस समय दो खेमो में बंट चुकी हैं, एक तरफ जहाँ मध्यप्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री दिग्गविजय सिंह का खेमा हैं जिसमे मध्यप्रदेश के सीएम कमलनाथ शामिल हैं वही दूसरी तरफ ज्योतिरादित्य सिंधिया अकेले खड़े नजर आ रहे हैं ।

जानकारी के अनुसार जैसे ही मध्यप्रदेश में हुए विधानसभा चुनाव के नतीजे आये और उसमे कोंग्रेस को जीत मिली तो ज्योतिरादित्य सिंधिया और उनके समर्थक ये सोच बैठे थे की मुख्यमंत्री की कुर्सी पर सिंधिया का ही कब्ज़ा होगा लेकिन सब अंदाजो और आंकड़ो को फ़ैल करते हुए कोंग्रेस ने एक चौकाने वाला फैसला लिया और कमलनाथ को मुख्यमंत्री बना दिया । इसके बाद मध्यप्रदेश में कई सियासी सुर नजर आये जिसमे कई लोग इस बात को लेकर प्रदर्शन करने लगे की मुख्यमंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया को ही बनाया जाए ।

इस बात से आज कोई अनजान नही हैं की मध्यप्रदेश सरकार आज उस दौर से गुजर रही हैं जहाँ हर किसी की आँखों में सत्ता के लिए प्यास दिखाई दे दे रही हैं । राजनीति के जानकार ये भी बता रहे हैं की कोंग्रेस को मध्यप्रदेश में अपनी जीत का अंतर नही भूलना चाहिए, वह बेहद कम अंतर से जीती हैं ऐसे में उसकी इस अंदरूनी कलह का फायदा बीजेपी को मिल सकता हैं ।

ऐसा ही कुछ हाल राजस्थान की कोंग्रेस सरकार में दिखाई दे रहा है ।अब आने वाले समय में क्या होगा ये आने वाला वक्त ही बतायेगा की लेकिन राजनीति के जानकार इस बात को मान रहे हैं की ये कलह लोकसभा चुनाव में कोंग्रेस को महंगी पड़ सकती हैं ।

Loading...
Loading...